बदल जाएगा 45 साल पुरानी क्रीम Fair & Lovely का नाम, ब्रांड का नाम बदलेगी हिन्दुस्तान यूनीलीवर

बड़ी कंपनी हिन्दुस्तान यूनीलीवर अपने ब्रांड फेयर एंड लवली का नाम बदलने जा रहा है। कंपनी की ओर से कहा गया है कि फेयर एंड लवली से फेयर शब्द को हटाने की बात चल रही है, नया ब्रांड नेम सभी की मंजूरी के बाद लॉन्च किया जाएगा। कंपनी जो नए नाम के साथ अपने प्रोडक्ट लॉन्च करेगी वो अलग-अलग स्किन टोन वाली महिलाओं के प्रतिनिधित्व पर ज्यादा ध्यान दिया जाएगा।

आपको बता दें कि फेयर एंड लवली को लेकर कई सारे आरोप लगे थे। खासकर स्किल कलर को लेकर कंपनी पर भेदभाव करने का आरोप लगा था। जिसके बाद अब कंपनी ने ब्रांड नेम ही चेंज करने विचार कर रही है। हिन्दुस्तान यूनीलीवर ने गुरुवार को कहा है कि वो अपने ब्रांड के नाम में से फेयर शब्द का इस्तेमाल बंद कर देगी। कंपनी ने यह भी बताया कि उसने अपने नए नाम के लिए अप्लाई किया हुआ है। हालांकि इसके लिए अभी अप्रूवल नहीं मिला है।

अमेरिका में एक अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद से ही पूरी दुनिया में नस्लीय मानसिकता को लेकर बहस छिड़ गई है. तमाम जगहों पर ‘ब्लैक लाइव्स मैटर’ जैसे मूवमेंट चलाए जा रहे हैं. इसी सप्ताह, जॉनसन ऐंड जॉनसन कंपनी ने कहा था कि वह स्किन व्हाइटनिंग के कारोबार से हट रही है. इसमें भारत में क्लीन ऐंड क्लियर फेयरनेस ब्रैंड और एशिया में न्यूट्रोजेना फाइन फेयरनेस लाइन जैसे उत्पाद भी शामिल हैं.

यूनिलिवर ब्यूटी ऐंड पर्सनल केयर डिवीजन के अध्यक्ष सनी जैन ने कहा, “हम इस बात को समझते हैं कि फेयर, व्हाइट और लाइट जैसे शब्द सुंदरता की एकपक्षीय परिभाषा को जाहिर करते हैं जोकि सही नहीं है. हम इसे सुधारना चाहते हैं.”

भारत समेत एशियाई देशों में गोरे रंग को लेकर कुछ ज्यादा ही क्रेज है. गोरे रंग को केवल सुंदरता ही नहीं बल्कि स्टेटस और पैसे से भी जोड़कर देखा जाता है. इसी मानसिकता को लॉरियल, प्रॉक्टर ऐंड गैंबल जैसी तमाम कंपनियां भुनाती हैं और गोरे रंग की स्किन का वादा करने वाले तमाम उत्पाद पेश करती हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *