ताजा खबरेंमहाराष्ट्र

नांदेड़ जिले में सूखे की मार…सिर्फ 30 फीसदी पानी का भंडारण बचा

364

Water Shortage In Nanded: नांदेड़ में जल संकट की आशंका. क्योंकि नांदेड़ को पानी सप्लाई करने वाले विष्णुपुरी बांध में सिर्फ 30 फीसदी पानी का भंडारण बचा है. इसलिए नांदेड़ जिले में पानी कम होने की आशंका है.

इस वक्त हर तरफ झुलसा देने वाली गर्मी पड़ रही है। ऐसे में मराठवाड़ा के कुछ हिस्सों में जल संकट पैदा होने की आशंका है. नांदेड़ में पानी की कमी होने की आशंका है. क्योंकि नांदेड़ को पानी सप्लाई करने वाले बांधों में सिर्फ 30 फीसदी ही पानी का भंडारण बचा है. इसलिए नांदेड़ शहर और जिले में पानी कम होने की संभावना है. नांदेड़ शहर को पानी की आपूर्ति करने वाले विष्णुपुरी बांध में 24 फीसदी पानी बचा हुआ है. इस बांध से फिलहाल हर दो से तीन दिन में नांदेड़ शहर को पानी की आपूर्ति की जा रही है. नांदेड़ जिले के कुछ गांवों में टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है।

जल का कितना प्रतिशत शेष रहता है?
नांदेड़ जिले में छोटी-बड़ी परियोजनाओं में महज 30 फीसदी ही जल भंडार बचा है. अगर बारिश लंबी चली तो नांदेड़ जिले में पानी की कमी होने की आशंका है. फिलहाल जिले के 21 गांवों व टोलों में टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है. पानी की कमी को दूर करने के लिए इस वर्ष जिले में 275 निजी कुएं, बोर का अधिग्रहण किया गया है।

किस बांध में कितना प्रतिशत जल भंडारण? (Water Shortage In Nanded)
विष्णुपुरी बांध – 24 प्रतिशत
निचली मनार परियोजना – 25.16 प्रतिशत ऊपरी मनार परियोजना – 3.71 प्रतिशत पेठवाडज परियोजना – 21.63 प्रतिशत

अन्य परियोजनाओं में कितना प्रतिशत जल भण्डारण है
अमदुरा – 25 प्रतिशत बबूल – 12 प्रतिशत बालेगांव – 51 प्रतिशत

फिलहाल नांदेड़ जिले में 21 गांवों को टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है. नांदेड़ जिले के 21 गांवों और बस्तियों में 21 टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है. नांदेड़ जिले में पानी की आपूर्ति के लिए 275 निजी कुओं और बोरों का अधिग्रहण किया जा रहा है। कंधार तालुका में 14 टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है। मुखेड़ गांव में 5, माहुर में 1 और भोकर में एक टैंकर से पानी की सप्लाई की जा रही है.

परभणी में भी पानी की कमी
मई महीने में परभणी जिले में भीषण सूखा पड़ रहा है. जिले के जिंतूर तालुका में सूखे की तीव्रता अधिक है। बोरी, कौसाड़ी क्षेत्र में नागरिकों को पेयजल के लिए कड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है। परभणी के प्रमुख बांध, येल्दारी जलाशय में केवल 28% जल भंडारण है। इसमें 6 प्रतिशत गाद है, इसलिए येल्दारी जलाशय में केवल 22 प्रतिशत जल भंडारण उपलब्ध है, परभणी और नांदेड़ जिले इस जलाशय पर निर्भर हैं। फिलहाल परभणी जिले में 14 टैंकरों से पानी की आपूर्ति की जा रही है.

 

Also Read: यही तो बात करते हैं कि जमानत मिलने के बाद वेदांत अग्रवाल के रैप सॉन्ग में लोगों को मां-बहन की गालियां देते हैं?

Recent Posts

Advertisement

ब्रेकिंग न्यूज़

x