ताजा खबरेंदुनियादेशपॉलिटिक्सराष्ट्रीय

पाकिस्तान की इंटरनेशनल बेइज्जती

118

पाकिस्तान (Pakistan) की छवि एक असफल राष्ट्र की बन चुकी है। एक बार फिर यह बात सही साबित हुआ है। क्योंकि पाकिस्तान ने रविवार यानी 19 नवम्बर को देश की राजधानी इस्लामाबाद में आर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कन्ट्रीज यानी ओआइसी की बैठक बुलाई थी।

इस बैठक के लिए दुनियाभर के 57 इस्लामिक देशों के विदेश मंत्रियों को आमंत्रणल भेजा गया था। लेकिम इस बैठक में सिर्फ 16 छोटे इस्लामिक देशों के विदेश मंत्री पहुंचे। वहीं बड़े इस्लामिक देशों ने अपने राजदूत औऱ अफसरों को ओआइसी की बैठक में भेज दिया।

इसमें सबसे अहम बात यह है कि अफगानिस्तान के पांच पड़ोसी सेंट्रल एशिया के देश के विदेश मंत्री ओआईसी समिट में जाने की बजाय दिल्ली में अफगान मीटिंग करने पहुंच गए। सोमवार को इन पांच देशों के विदेश मंत्रियों ने पीएम मोदी से भी मुलाकात की।

जिसके बाद पाकिस्तानी मीडिया में चर्चा है कि हिंदुस्तान ने पाक का ओआइसी समिट विफल कर दिया। लेकिन सोशल मीडिया पर ओआइसी समिट की असफलता को लेकर पाकिस्तान की जमकर खिंचाई हो रही है।

दरअसल, पाकिस्तान ने 19 दिसम्बर को ओआईसी की बैठक बुलाई थी। इस बैठक का मुख्य एजेंडा अफगानिस्तान को देश के तौरपर मान्यता और मदद देना था। लेकिन इसी दिन भारत में भी इंडिया सेंट्रल एशिया समिट का आयोजन किया गया था। इस समिट में एशिया के पांच बड़े देशों ने हिस्सा लिया था।

भारत के समिट का एजेंडा भी अफगानिस्तान ही था। भारत ने डिप्लोमेसी का दाव खेल पाकिस्तान के ओआइसी समिट को असफल कर इमरान खान और पाक के विदेश मंत्री शाह महमूद कुरैशी के नापाक मंसूबों पर पानी फेर दिया। वहीं पूरी दुनिया के सामने पाक की ओआइसी समिट मजाक बनकर रह गई।

भारत की इस रणनीति ने एक बार फिर पाकिस्तान को उसकी जगह दिखाने का काम किया है। वर्तमान में पाकिस्तान के ओआइसी समिट की क्या अहमियत है? यह दुनिया के सामने आ चुका है। क्योंकि पाक के ओआइसी समिट में एक भी अरब मुल्क का विदेश मंत्री शामिल नहीं हुआ।

Reported By: Rajesh Soni

Also Read: https://metromumbailive.com/a-unique-tribute-to-late-cds-bipin-rawat-at-the-peak-of-sahyadri/

Recent Posts

Advertisement

ब्रेकिंग न्यूज़

x