ताजा खबरेंपॉलिटिक्समुंबई

मध्य प्रदेश, राजस्थान में झड़प हुई, प्रवृत्ति बनी, भय बढ़ा

64
मध्य प्रदेश, राजस्थान में झड़प हुई, प्रवृत्ति बनी, भय बढ़ा

Clash: राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के रुझान हाथ में हैं. इसके मुताबिक, इन चार राज्यों में से दो में कांग्रेस और बीजेपी आमने-सामने हैं. जबकि अन्य दो राज्यों में कांग्रेस निर्विवाद बहुमत की ओर बढ़ती दिख रही है. हालांकि, कांग्रेस ने भरोसा जताया है कि नतीजे आते ही वह इन चारों राज्यों में सत्ता में आ जाएगी.

राजस्थान, मध्य प्रदेश, तेलंगाना और छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव का रुझान सामने आने लगा है. देश का सारा ध्यान इन चार राज्यों के नतीजों पर है. उसमें भी सबकी नजर राजस्थान, मध्य प्रदेश और तेलंगाना के नतीजों पर है. इन तीनों राज्यों में बड़े बदलाव का अनुमान है. उसी हिसाब से ट्रेंड भी आ रहा है. हालांकि, राजस्थान और मध्य प्रदेश में कांग्रेस और बीजेपी के बीच टकराव देखने को मिल रहा है. पहले आर्ट के मुताबिक, मध्य प्रदेश में कांग्रेस आगे चल रही है और राजस्थान में बीजेपी आगे चल रही है. इसलिए ऐसे संकेत मिल रहे हैं कि इन दोनों राज्यों में सत्ता परिवर्तन हो सकता है.

पहले आर्ट के मुताबिक मध्य प्रदेश में बीजेपी 85 और कांग्रेस 74 सीटों पर आगे चल रही है. वहीं राजस्थान में बीजेपी 85 और कांग्रेस 74 सीटों पर आगे चल रही है. छत्तीसगढ़ में भी कांग्रेस आगे चल रही है. छत्तीसगढ़ में कांग्रेस 38 और बीजेपी 31 सीटों पर आगे चल रही है. तेलंगाना में भी कांग्रेस आगे चल रही है. तेलंगाना में कांग्रेस को 52 सीटें और सत्तारूढ़ बीआरएस को 28 सीटें मिलती दिख रही हैं. बीजेपी और एमआईएम 3-3 सीटों पर आगे चल रही हैं.

इस बीच राजस्थान और मध्य प्रदेश में दोनों पार्टियां एक-दूसरे से भिड़ रही हैं. इन दोनों राज्यों में सरकार बनाने के लिए दोनों दलों को कुछ विधायक खोने की संभावना है। ऐसे में विधायकों के फूटने की आशंका जताई जा रही है. इसलिए इन संभावित विधायकों को खरीद-फरोख्त से बचाने के लिए रिसॉर्ट में रखा जाएगा. कांग्रेस ने सभी प्रत्याशियों को जयपुर में एक साथ जुटने का आदेश दिया है.(Clash)

चारों राज्यों में कोई टकराव न हो इसके लिए कांग्रेस ने चारों राज्यों में महाराष्ट्र के नेताओं को जिम्मेदारी सौंपी है. पूर्व मुख्यमंत्रियों सुशील कुमार शिंदे, पृथ्वीराज चव्हाण, मुकुल वासनिक और चंद्रकांत हंडोरे को जिम्मेदारी सौंपी गई है। ये चारों नेता चारों राज्यों में जायेंगे. ये नेता चारों राज्यों में कांग्रेस की सत्ता स्थापित करने की कोशिश करेंगे ये नेता इस बात का भी ख्याल रखेंगे कि कोई विधायक न टूटे. साथ ही कर्नाटक के उपमुख्यमंत्री डीके शिवकुमार को तेलंगाना की जिम्मेदारी दी गई है.

Also Read: अजित पवार के बयान की कीमत क्या है ? शरद पवार ने अपने भाषण में क्या कहा?

WhatsApp Group Join Now

Recent Posts

Advertisement

ब्रेकिंग न्यूज़

x