ताजा खबरेंपॉलिटिक्स

अजित पवार के बयान की कीमत क्या है ? शरद पवार ने अपने भाषण में क्या कहा?

62
अजित पवार के बयान की कीमत क्या है? शरद पवार ने अपने भाषण में क्या कहा?

Ajit Pawar’s Statement: तीन से चार महीने में लोकसभा चुनाव होंगे. आठ-दस माह बाद विधानसभा चुनाव आ गये. प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र का चित्र बनाएं. अगर कोई यह कहकर अलग माहौल बना रहा है कि कितनी सीटें जीतेंगे तैयारी करो तो हम सोचने पर मजबूर हो जाते हैं. एनसीपी नेता शरद पवार ने अपील की कि हमें यह कहने का काम करना चाहिए कि हम अवसरवादी नहीं हैं.

उपमुख्यमंत्री अजित पवार ने एनसीपी प्रमुख शरद पवार की कड़ी आलोचना की थी. धरासोड के शरद पवार के रवैये की आलोचना की. साथ ही पवार बीजेपी के साथ जाने को भी तैयार थे. उन्होंने यह भी दावा किया था कि तीन-चार बार चर्चा करने के बावजूद उन्होंने कच्चा खाना खाया. चर्चा थी कि अजितदादा के दावे पर शरद पवार कुछ कहेंगे. लेकिन शरद पवार ने कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अजितदादा के बयान को ज्यादा तवज्जो नहीं दी. उन्होंने किसी भी आरोप का खंडन या स्पष्टीकरण नहीं किया. शरद पवार ने कहा, इसके विपरीत, उनके बयान पर ध्यान न दें।

शरद पवार एनसीपी यूथ कांग्रेस की बैठक में बोल रहे थे. इस बार उन्होंने अजित पवार के बयान पर गहराई से बात करने से परहेज किया. जो हुआ उसके बारे में चिंता करने का कोई कारण नहीं है। तो संगठन स्वच्छ हो गया. नये लोगों को अवसर देने की स्थिति बनी. यदि कल युवा संगठन मजबूत हो गया तो विधान सभा में राकांपा युवा कांग्रेस के नेता बड़े पैमाने पर निर्वाचित होंगे. देखा जाएगा कि वे राज्य चला सकते हैं. यह आपका मौका है. इसे नोट कर लें और जिस निर्वाचन क्षेत्र में आप रहते हैं, उसके संपर्क में रहें। इस बात पर जोर दें कि प्रत्येक गांव कैसे जाएगा और श्रमिकों की कतार कैसे खड़ी होगी। इस काम के बाद नेतृत्व की एक नई परत उभर कर सामने आएगी. ये उपलब्धि आपके अंदर है. शरद पवार ने संगठन को मजबूत करने की अपील की.(Ajit Pawar’s Statement)

कुछ लोगों ने नये सवाल खड़े कर दिये हैं. आलोचना टिप्पणी की. पार्टी लेने की कोशिश की. उन्होंने मेरी आलोचना की. इसमें ज्यादा सोच-विचार की जरूरत नहीं है. शरद पवार ने दावा किया कि उन्होंने इस बात से ध्यान भटकाने के लिए उन पर हमला करने का फॉर्मूला अपनाया है कि कल जब वह जनता के बीच जाएंगे तो लोग उनसे कई सवाल पूछेंगे.

इस मौके पर शरद पवार ने एक किस्सा सुनाया. 1978 में चुनाव हुए. मैंने युवाओं को मौका दिया था. नतीजा सामने था. 60 लोग चुने गए. चुनाव के बाद सरकार किसी और के पास आ गई. मैं कुछ दिनों के लिए विदेश चला गया. फिर वापस आ गये. तब एहसास हुआ. 60 विधायक चुने गए. केवल छह बचे थे. बाकी सभी दूसरे दलों में चले गये. 60 से 6 पर आ गये. लोगों ने सोचा. ये सोच ख़त्म हो जाएगी. लेकिन ये सोच गांधी नेहरू, यशवंतराव चव्हाण, फुले, अंबेडकर की थी. यह ख़त्म नहीं हो सकता.

बाद में मैंने एक नई पीढ़ी खड़ी की। हमें यकीन था कि हम दोबारा चुने जायेंगे. बाद में चुनाव हुए. उन 60 लोगों में से 51 से 52 लोग चुनाव हार गये. यानी लोगों को ये फैसला पसंद नहीं आया. एक बार फिर हमने एक नई पीढ़ी खड़ी की। इसके बाद 76 लोग चुने गये. राज्य की राजनीति ने एक अलग मोड़ ले लिया. कौन चला गया, इसकी चिंता करने की जरूरत नहीं. लोग उनके साथ रहते हैं जो सामान्य लोगों के साथ रहते हैं। उन्होंने कहा कि इस चुनाव में भी यही देखने को मिलेगा.

बिजली आती है और जाती है. सत्ता जाने पर यदि नया उम्मीदवार खड़ा होता है तो उसे आम लोगों का समर्थन मिलता है। लोग उन लोगों पर भरोसा नहीं करते जो धन के लिए कहीं और जाते हैं। तुम्हे किसके साथ जाना था? लोग पूछ रहे हैं कि फोटो का इस्तेमाल किसने किया, आपने किसका नेतृत्व स्वीकार किया, आप आज कहां हैं और आपका एजेंडा क्या है। लोगों में बदलाव का खतरा है. शरद पवार ने कहा कि परिवर्तन की इस लड़ाई को आगे बढ़ाना है.

Also Read: शरद पवार का अजित पवार पर सबसे अपमानजनक हमला, ‘संगठन साफ ​​हो गया’

WhatsApp Group Join Now

Recent Posts

Advertisement

ब्रेकिंग न्यूज़

x