>

कोरोना की पहली और दूसरी लहर पर नियंत्रण पाने के लिए भले ही मुम्बई शहर की तारीफ पूरी दुनिया ने की हो। लेकिन मेडिकल फैसिलिटीज के मामले में मुम्बई अभी भी पिछड़ा हुआ शहर है। नेशनल बिल्डिंग कोड के पैरामीटर के मुताबिक, 15 हजार की आबादी पर एक दवाखाना होना […]

>

महाराष्ट्र (Maharashtra) के आदिवासी बाहुल्य जिले नंदूरबार से एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यहां एक शख्स खराब सड़क के कारण अपनी बीमार पत्नी को कंधे पर अस्पताल ले गया। दुर्भाग्यवश यह शख्स अपनी पत्नी की जान नहीं बचा पाया। क्योंकि समय रहते उस महिला को अस्पताल नहीं पहुंचाया […]