मुंबई में मेरी जान को खतरा, केस को शिमला शिफ्ट करें – कंगन रनौत

मुंबई में मेरी जान को खतरा, केस को शिमला शिफ्ट करें - कंगन रनौत | Kangana Ranaut

अदालत से कंगना की गुहार, शिवसेना से है जान को खतरा, विवादों में हमेशा घिरी रहनेवाली प्रसिद्ध अभिनेत्री कंगना रनौत (kangana Ranaut) ने अदालत में एक याचिका दायर कर शिवसेना (Shivsena) पर आरोप लगाया है कि शिव-सेना से उसकी जान को खतरा है, अतः अदालत में कंगना से सम्बंधित सभी लंबित मामलों को एक ही जगह शिमला की अदालत में शिफ्ट किया जाये.

आप को बता दें, कंगना पर महाराष्ट्र (Maharashtra) के विभिन्न अदालतों में कई मामले चल रहे हैं, जिसमें से वकील अली कासिफ खान , प्रसिद्द लेखक जावेद अख्तर और कास्टिंग डायरेक्टर मुन्नवर अली सय्यद द्वारा दायर मामले शामिल हैं. इन मामलों की सुनवाई महाराष्ट्र के विभिन्न अदालतों में चल रहा है, जिसके लिए कंगना (Kangana Ranaut) और उसकी बहन रंगोली को यहाँ की अदालतों में हाज़िर होना है, पर अब तक वे इन अदालतों में हाज़िर नहीं हो
सकी हैं. परिणामतः अदालत ने इनके खिलाफ जमानती वारंट जारी किया है और इसी सिलसिले में कंगना और उसकी बहन रंगोली ने अपने वकील नीरज शेखर के जरिये सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर मांग की है की शिवसेना के नेता हम से काफी खफा और हमलावर हैं उनके प्रति, जिससे उनकी जान को यहाँ खतरा है. इन खतरों को ध्यान में रखते हुए अदालत उनसे सम्बंधित महाराष्ट्र की सभी अदालतों के मामलों को एक ही जगह शिमला में शिफ्ट कर दे. वहीँ शिमला कंगना का गृहे शहर है.

दरअसल, कंगना और शिवसेना (Shivsena) दोनों आमने-सामने थे. दोनों का तकरार, आरोप – प्रतियारोप और कानूनी कार्रवाइयां आम चर्चा का विषय बना हुआ था. उस दौरान कंगना ने जहां शिवसेना को ललकार लगाई थी, वहीँ शिवसेना ने बीएमसी (BMC) के मार्फ़त तत्काल कार्रवाई करते हुए कंगना के मुंबई (Mumbai)  स्थित कार्यालय में अवैध निर्माणों को ध्वस्त करावा दिया था. इसके बाद तो जैसे कंगना पर आफत ही बरस पड़ी थी . राजनितिक रंग में रंगी दोनों तरफ के विवाद ने खूब सुर्खियाँ बटोरीं. जनता का ध्यान भी अपनी ओर खूब खींचा था.

Also Read: महाराष्ट्र में बेकाबू हो रहा है कोरोना, उद्धव ठाकरे ने दिए लॉकडाउन के संकेत

You May Like