अनिल देशमुख के बहाने नितेश राणे ने अनिल परब पर नाम लिए बिना किया बड़ा हमला, पूछा-‘मुम्बई का दूसरा पालक मंत्री…’

महाराष्ट्र (Maharashtra) के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख (Anil Deshmukh) के मुम्बई (Mumbai) स्थित घर समेत 10 जगहों पर सीबीआई (CBI) ने छापेमारी की है। वहीं सीबीआई (CBI) ने देशमुख (Anil Deshmukh) पर 100 करोड़ की अवैध वसूली मामले में एफआईआर भी दर्ज कर ली है। जिसके बाद महाराष्ट्र (Maharashtra) में सियासी भूचाल आ गया है। एक बार फिर महाविकास आघाडी सरकार के मंत्री और प्रमुख विपक्षी दल भाजपा के नेताओं के बीच जोरदार जुबानी जंग शुरू हो गई है। इसी बीच भाजपा के तेज तर्रार विधायक नितेश राणे ने राज्य के परिवहन मिनीस्टर अनिल परब पर नाम लिए बिना निशाना साधा है।

नितेश राणे ने अनिल परब पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया है। राणे ने लिखा कि, ‘एक मुम्बईकर का जिज्ञासु प्रश्न। मुम्बई का दूसरा पालक मंत्री कहां है? इस समय मुम्बई (Mumbai) संकट से जूझ रहा है और वें जमीन पर नहीं दिखाई दे रहे हैं। वें कहां छिपे हुए हैं? कर्जत फार्महाउस में? क्या अब तक उनका कवरन्टीन खत्म नहीं हुआ है? मुझे लगता है किसीकी गिरफ्तारी या सीबीआई (CBI) की पूछताछ से डरे हुए हैं।

दरअसल, नितेश राणे, शिवसेना के बड़े नेता और राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब पर निशाना साध रहे हैं। इससे पहले आज भाजपा के कद्दावर नेता और किरीट सौमैया भी 100 करोड़ की वसूली मामले में अनिल परब पर निशाना साध चुके हैं। सौमैया ने कहा कि, ‘सीबीआई ने एफआईआर दर्ज कर अपनी जांच शुरू कर दी है। देशमुख के बाद अब अगला नंबर राज्य के परिवहन मंत्री अनिल परब का है। वर्तमान में इस मामले में सीबीआई, एनआईए और ईडी जांच कर रही है। जल्द इस मामले में इनकम टैक्स भी जांच करेगी। उद्धव ठाकरे को 2 हजार करोड़ रुपए के वसूली प्रकरण का हिसाब देना पड़ेगा।

बता दें कि, कुछ दिन पहले एंटीलिया विस्फोटक, मनसुख हिरेन हत्याकांड और 100 करोड़ की अवैध वसूली रैकेट में फंसे मुम्बई पुलिस के विवादित अधिकारी सचिन वाज़े ने एनआईए को सौंपे अपने एक लिखित बयान में अनिल परब पर गंभीर आरोप लगाए थे। वाज़े ने परब पर एसबीयूटी के ट्रस्टियों को बुलाने का आदेश दिया था। ताकि उनसे 50 करोड़ की रकम वसूली जा सकें। हालांकि वाज़े के आरोपों को परब ने खारिज कर दिया था।

परब ने अपने बचाव में कहा था कि, ‘ इन सभी आरोपों से उनका कोई संबंध नहीं है। और यह भी पता नहीं हैं कि क्या एसबीयूटी के खिलाफ कोई जांच हुई थी। परब ने वाजे के आरोपों को भाजपा की रणनीति का हिस्सा करार दिया। वहीं कुछ दिन पहले परब कोरोना वायरस से शिकार हो गए थे। जिसके बाद से अनिल परब होम कवरन्टीन है।

Report by : Rajesh Soni

Also read : विरार अग्निकांड को लेकर स्वास्थ्य मंत्री टोपे का विवादित बयान, कहा-‘यह कोई नेशनल न्यूज़ नहीं….’

You May Like