NIA ने एंटीलिया विस्फोटक मामले में एक और मुम्बई पुलिस के अधिकारी को किया गिरफ्तार

एंटीलिया विस्फोटक (Antiliya Bomb Case) और मनसुख हिरेन हत्याकांड मामले में एनआईए ने बड़ी कार्रवाई की है। एंटीलिया विस्फोटक (Antiliya Bomb Case) मामले की जांच कर रही एनआईए ने मुम्बई पुलिस के सब इंस्पेक्टर रियाज काजी को भी आज गिरफ्तार कर लिया है। जांच एजेंसी के मुताबिक मुम्बई पुलिस के अफसर काजी ने एंटीलिया विस्फोटक (Antiliya Bomb Case) साजिश में विवादित पुलिस अधिकारी सचिन वाज़े की मदद की थी। फिलहाल वाज़े भी एनआईए की हिरासत में हैं।

मालूम हो कि, रियाज काजी भी मुम्बई पुलिस में एक सब इंस्पेक्टर हैं। एंटीलिया केस के अलावा, वाज़े के साथ-साथ काजी भी मनसुख हिरेन हत्याकांड में भी जांच के दायरे में है। बीते मार्च को मुम्बई में मनसुख की लाश मुम्ब्रा क्रीक से बरामद की गई थी। बता दें कि, देश के सबसे बड़े और धनी बिजनसमैन अम्बानी के घर एंटीलिया के बाहर विस्फ़ोटकों से भरी लावारिस स्कोर्पियो कार मिली थी। इस कार के मालिक मनसुख हिरेन थे। इस गाड़ी के मिलने के बाद 13 मार्च को एनआईए ने वाज़े को अरेस्ट कर लिया था।

बता दें कि, दो दिन पहले वाज़े को अदालत ने 23 अप्रैल तक एनआईए के हिरासत में रखने का आदेश दिया था। एंटीलिया विस्फोटक और मनसुख हिरेन हत्याकांड में वाज़े मुख्य आरोपी है। एनआईए ने कोर्ट से सचिन वाज़े की न्यायिक हिरासत की मांग की थी, ताकि उससे पूछताछ की जा सके। एनआईए की इस मांग को अदालत ने मान लिया। वहीं अदालत में सुनवाई के दौरान वाज़े के वकील ने उनके जान को खतरा बताया और सरकार से उन्हें सुरक्षित सेल देने की मांग की है। ताकि उनकी सुरक्षा सुनिश्चित की जा सके।

इसके अलावा वाज़े को लेकर आये दिन चौंकने वाले खुलासे हो रहे हैं। एनआईए सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के अनुसार, वाज़े आतंकी संगठन के नाम पर एक और बड़ी साजिश की योजना में लगा हुआ था। वाज़े अपनी दूसरी साजिश को अंजाम तक पहुंचाने से पहले कानून के शिंकजे में फंस गया। वहीं मुम्बई पुलिस के एक और पुलिस अधिकारी एवं एनकाउंटर स्पेशलिस्ट प्रदीप शर्मा भी एनआईए के शक के घेरे में है। एनआईए यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि, कहीं प्रदीप शर्मा ने भी तो एंटीलिया के बाहर विस्फ़ोटकों से भरी कार रखने में वाज़े की मदद तो नहीं की थी।

Report by : Rajesh Soni

Also read : वीकेंड लॉकडाउन और कड़े प्रतिबंधों के कारण पब्लिक ट्रांसपोर्ट में हुई भीड़ कम

You May Like

Breaking News