ओमिक्रोन पर बूस्टर डोज कारगर नहीं- WHO

दुनियाभर में कोविड-19 का संक्रमण बढ़ता ही जा रहा है। वहीं कई देशों में टीकाकरण और बूस्टर डोजिंग अभियान चलाए जा रहे हैं। इस बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि टीकों की वर्तमान बूस्टर डोज अपर्याप्त है।

और संक्रमण को रोकने के लिए प्रभावी टीकों को विकसित करने की आवश्यकता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन के विशेषज्ञों ने मंगलवार को चेतावनी दी कि कोविड वैक्सीन की बूस्टर डोज कोरोना के नए वेरिएंट के खिलाफ प्रभावी नहीं है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के कोरोना वैक्सीन फॉर्म्युलेशन (TAG-Co-VAC) पर तकनीकी सलाहकार समूह के विशेषज्ञों का कहना है कि मौजूदा टीके गंभीर बीमारियों और चिंता के प्रकारों के खिलाफ प्रभावी हैं। भविष्य में हमें कोरोना से होने वाली मृत्यु से बचाने के लिए और अधिक प्रभावी टीके विकसित करने की आवश्यकता है, जो कोरोना संक्रमण को अधिक प्रभावी ढंग से रोक सके। केवल नए टीके ही गंभीर बीमारी और मृत्यु को बेहतर ढंग से रोक सकते हैं।

WHO के तकनीकी सलाहकार समूह ने एक बयान में कहा कि मूल वैक्सीन फॉर्मूलेशन की बूस्टर खुराक पर आधारित टीकाकरण नीति उपयुक्त या टिकाऊ होने की संभावना नहीं है। शुरुआती आंकड़ों के मुताबिक, मौजूदा वैक्सीन नए ओमिक्रोन वेरिएंट में कोरोना की रोकथाम में कम कारगर है। इसलिए मरीजों की सुरक्षा के लिए नए टीके विकसित करने की जरूरत है।

 

Reported By – Rajesh Soni

Also Read – देश में कोरोना मृतकों की संख्या में बढोरती

You May Like

%d bloggers like this: