भारत में अब दो महामारी का खतरा

कोरोना (Corona) महामारी के बाद ब्लैक फंगस (Black Fungus) को लेकर लोग डरे हुए है, तो आइये आज हम ब्लैक फंगस के बारे में जानते है, की आखिर ये ब्लैक फंगस है क्या? कोरोना महामारी के बाद अब लोगो में ब्लैक फंगस का खौफ बढ़ता जा रहा है, और खौफ हो भी क्यों ना एक के बाद एक देश के कई राज्यों ने ब्लैक फंगस को महामारी जो घोसित कर दिया है, इस कड़ी में अब महाराष्ट्र भी शामिल हो गया है महाराष्ट्र ने भी ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया ह। इसी बीच म्युकरोमयकोसिस को लेकर AIIMS के डायरेक्टर डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने एक एहम खुलासा किया है, उन्होंने कहा की ब्लैक फंगस कम्युनिकेबल डिजीज नहीं है, यानी की संक्रमित बिमारी नहीं है और ये कोरोना की तरह एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में नहीं फैलता, उन्होंने ये भी कहा है की ब्लैक फंगस को लेकर कई तरह के भ्रम भी फैलाये गए है।

वही देश में अब तक ब्लैक फंगस के 11 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आ चुके है और 235 लोगो ने इस बिमारी के चलते अपनी जान गवाई है, महाराष्ट्र में ब्लैक फंगस के 2 हज़ार से ज़्यादा मामले सामने आ चुके और 120 लोग अब तक अपनी जान गवा चुके है इन् आकड़ो से तो साफ़ है की अब भारत पर एक नहीं बल्कि 2 महामारी का खतरा है।

एक्सपर्ट्स की माने को ब्लैक फंगस काफी सालो पुरानी बिमारी है जो की पानी, मिट्टी और ज़मीन में हमेश से रहा है, लेकिन कोरोना से ये बेहद खतरनाक होगया है, पहले ब्लैक फंगस के साल में एक से दो मामले सामने आते थे और अब रोज़ के 5 से 6 मामले सामने आते है इस बिमारी का अचनाक इतना खौफनाक रूप लेने की वजह है ज़्यादा से ज़्यादा ऑक्सीजन सिलेंडर इस्तेमाल करना, अस्पतालों में रहना, कोरोना के कारण इम्यून सिस्टम पर असर पड़ना और स्टेरॉयड का इस्तेमा।

कोरोना से तो मास्क और दो गजकी दुरी हमें बच्चा सकता है लेकिन अब एक एहम सवाल है की ब्लैक फंगस से कैसे बचा जाए, ब्लैक फंगस इसीलिए ज़्यादा खतरनाक माना जा रहा है क्यों की ये हवा में फैला हुआ है और नाक के रास्ते दिमाग में प्रवेश करता है ब्लैक फंगस सीधा मरीज के ब्रेन को संक्रमित करता है डॉक्टर्स की माने को ब्लैक फंगस भट ही मामूली लापरवाही से होता है, कोरोना वायरस भली ही दुनिया के लिए नया वायरस है लेकिन ब्लैक फंगस बहोत पुरानी बिमारी है, ब्लैक फंगस से बच्चो को बचाना बहोत ज़रूरी है मिट्टी में ब्लैक फंगस की मौजूदगी अधिक है बच्चो को धुल को में जाने से रोके, मास्क पहनाये, हाथो की सफाई रखे, ये भी कहा जा रहा है की मौसम के कारण ब्लैक फंगस इतना तेजी से फ़ैल रहा है, महाराष्ट्र में 113 अस्पतालों में ब्लैक फंगस के मरीजों का मुफ्त में इलाज किया रहा है। ब्लैक फंगस के बाद अब देश में वाइट फंगस और येलो फंगस जैसी बीमारिया भी सामने आयी है हालांकि अब तक इसके बारे में अधिक जानकारी नहीं मिल पायी है।

Report by : Nisha Thakur

Also read : म्यूकरमायकोसिस ( ब्लैक फंगस) के लिए तैयार हैं महाराष्ट्र जानिए कैसे

You May Like

%d bloggers like this: