भिवंडी के लोगों ने दूसरे शहर से टीका लगवाने पहुंचे लोगों का किया विरोध

देश में जानलेवा कोरोना (Corona) वायरस के प्रभाव को कम करने के लिए बड़े पैमाने पर टीकाकरण (Vaccination) अभियान चल रहा है। लोगों को टीका लगवाने के लिए ऑनलाईन रजिस्ट्रेशन करवाना अनिवार्य है। लेकिन ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के लिए स्थानीय एमएनपी (MNP) स्तर पर कोई स्वतंत्र व्यवस्था नहीं की गई है। एक ही ऑनलाइन एप होने के कारण टीका लगाने के लिए भिवंडी वैक्सीनेशन केंद्र में मुम्बई (Mumbai), ठाणे (Thane), बदलापुर और नवी मुम्बई (Mumbai) के लोग आ रहे हैं। जबकि स्थानीय भिवंडी के लोगों को टीका नहीं लग पा रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार, भिवंडी के कुछ लोगों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में वाडा सेंटर मिला था। लेकिन निर्धारित समय पर वहां पहुंचने पर स्थानीय नागरिकों ने उन्हें वैक्सीन (Vaccine) नहीं लगवाने दी। इस कारण अंकित सुरेखा एवं उनके परिवार को वैक्सीनेशन (Vaccination) सेंटर से खाली हाथ लौटना पड़ा। शहरवासी इंतजार में हैं कि आखिर उन्हें टीका कब लगेगा?

भिवंडी शहर की बड़ी आबादी को देखते हुए 10 वैक्सीनेशन सेंटर शुरू किया गए थे। पर वैक्सीनेशन (Vaccination) की कमी के कारण आठ टीकाकरण केंद्रों को स्थानीय प्रशासन को बंद करना पड़ गया। वहीं जिन 2 केंद्रों पर वैक्सीनेशन शुरू है, वहां ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन कराना जरूरी है। इन 2 केंद्रों पर भी वैक्सीन लगवाने लोग मुंबई, ठाणे, नवी मुंबई, कल्याण और बदलापुर से आ रहे हैं।

दूसरे शहरों से टीका लगवाने आये लोगों पर स्थानीय लोग ने आक्रोश व्यक्त किया है। यहां के पूर्व स्थानीय नगरसेवक संजय पाटिल ने कहा कि, ‘पहले टीका यहां के स्थानीय लोगों को लगना चाहिए। पता नहीं जिला बंदी होने के बावजूद लोग यहां कैसे आ जाते हैं?

Report by : Rajesh Soni

Also read : कोरोना के संदर्भ में मुंबईकरों के लिए खुशखबरी, शहर में कम हुए माइक्रो कंटेनमेंट और कंटेनमेंट ज़ोन हुए कम

You May Like