टैक्सी ड्राइवर एक महिला भी हो सकती है

40 वर्षीय हुस्ना सिद्दीकी ,एक महिला टैक्सी ड्राइवर जो भारत में लोगो के विचारों को कड़ी टक्कर देती हुई नजर आती है और सभी महिलाओ के लिए एक बड़ा उदाहरण साबित होती है ।

हुस्ना को टैक्सी चलाते हुए 14 साल से ज्यादा का समय बीत चुका है और इस ही बीच हुस्ना ने “लोटस टूर्स एंड ट्रेवल्स” नाम की कंपनी भी खोली है जहाँ कई महिलाएं अपना घर चलाने के लिए काम करती है ।अपने दम पे काम करती है ।

तो हुस्ना सिद्दीकी की कहानी कुछ ऐसी शुरू होती है ,हुस्ना की शादी 15 साल की उम्र में ही कर दी गई थी ,लेकिन उसके बाद ऊनी शादी से तंग आकर हुस्ना ने अपने पति को तलाक दे दिया और अपने दोनों बच्चो को लेकर वो अलग हो गई और उन्ही के साथ गुज़र बसर करने लगी ।हालांकि इन सभी के बीच हुस्ना को समझ नही आया था कि कैसे आगे बढ़ा जाए , क्या किया जाए हालांकि हुस्ना के माता पिता ने हुस्ना का साथ दिया लेकिन अपने माता पिता पर बोझ ना बनते हुए वो आगे बढ़ना चाहती थी इसलिए हुस्ना खुद अकेले ही अपनी राह पर चल पड़ी । अचानक एक दिन हुस्ना ने टैक्सी ड्राइवर के जॉब के खाली पद के बारे में पढा तो तुरंत वहां आवेदन दिया और बतौर टैक्सी ड्राइवर जॉब पर लग गई ।

2005 में हुस्ना को काफी तकलीफों का सामना करना पड़ता था क्योंकि लोगों को उनपर विश्वास नहीं रहता था ।लोगो को डर लगता था कि अरे ! ये एक महिला है , इस महिला को गाड़ी चलाने नही आता होगा ।लेकिन धीरे धीरे सब ठीक हो गया और हुस्ना को अपनी टैक्सी के लिए यात्री मिलने लगे ।इसके बाद एक दिन हुस्ना की टैक्सी में लिज़्ज़ी नाम की एक ब्रिटिश युवती बैठी जिससे बाते करते करते हुस्ना की दोस्ती बढ़ गई और लिज़्ज़ा ने हुस्ना को एक कंपनी खोलने का सुझाव दिया और वही उसे पैसो के लेनदेन में भी मदद की , इसके बाद हुस्ना ने अपनी पहली गाड़ी खरीदी ,2011 में हुस्ना ने लोटस टूर्स एंड ट्रेवल्स नाम की कंपनी खोली और ये कंपनी लगातार आगे ही बढ़ती जा रही है।
हुस्ना से कई महिलाएँ प्ररित हुई है और हुस्ना की कंपनी में पैसे इन्वेस्ट कर खुद की गाड़ी खरीदी है ,अब लोटस टूर्स एंड ट्रेवल्स 24 /7 लोगो को कैब सर्विस प्रदान करती है।
वहीँ हुस्ना लोगो के लिए एक संदेश देना चाहती है जहाँ वो कहती है की जिस तरह पुरुषो पर विश्वास किया जाता है उस ही तरह गाड़ी चलाने के लिए और दुनिया जीतने के लिए महिलाओ पर विश्वास करना जरूरी है ।

Reported by – Tripti Singh

Also Read – प्रदुषण से 2020 में 25000 मौतें, 2021 में कितनी होगी?

You May Like