म्यूकरमायकोसिस ( ब्लैक फंगस) के लिए तैयार हैं महाराष्ट्र जानिए कैसे

मुंबई (Mumbai) में कोरोना (Corona) महामारी के बाद अब म्यूकरमायकोसिस के मामले भी तेज़ी से बढ़ते दिखाई दे रहे हैं, जिनसे निपटने के लिए बृहन्मुंबई महानगरपालिका  (बीएमसी ) (BMC) की हर तरीके से तैयारी की जा रही हैं। जिस तरह वैक्सीन की कमी होने के कारण से लोगों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ा उसी तरह म्यूकरमायकोसिस (ब्लैक फंगस) (Black Fungus) में ना हो इसकिये इंजेक्शन के स्टॉक अभी से तैयार किये जा रहे हैं। सूत्रों के अनुसार, बीएमसी अब तक 10,000 एम्फोटेरोसिन इंजेक्शन की आर्डर दे चुकी हैं जिसमें से 3000 इंजेक्शन की सप्लाई भी बीएमसी को दिया जा चुका हैं।

स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने पहले ही संकेत दे दिए थे कि रेमडीसीवियर इंजेक्शन की तरह म्यूकरमायकोसिस बीमारी का इंजेक्शन एम्फोटेरोसिन-बी इंजेक्शन की कमी हो सकती हैं। खबर के अनुसार राज्य सरकार ने बाहरी कंपनी से 6000 इंजेक्शन मंगा रही हैं और बीएमसी भी इसके लिए तैयार शुरू हैं। इस बार जो मरीज़ प्राइवेट अस्पताल में भर्ती होंगे उनके लिए भी बीएमसी पहले से ही योजना बना रही हैं, वो लोग को इंजेक्शन के लिए कोई परेशानी ना हो इसलिए अस्पताल से मरीजों की जानकारी लेकर उन्हें इंजेक्शन उपलब्ध कराया जाएगा और अब तक 400 इंजेक्शन की सप्लाई प्राइवेट असप्तालने दी गई हैं। बीएमसी के 4 प्रमुख अस्पतालों में म्यूकरमायकोसिस के 165 मरीज हैं जो जिनमें 10 असपेरगिलोसिस फंगस से संक्रमित पाए गए हैं। वैसे तो दोनों फंगस के लक्षण समान है पर असपेरगिलोसिस फंगस की रफ्तार म्यूकरमायकोसिस से कम हैं। काकानी ने कहा कि ब्लैक फंगस से कुछ मरीजों की मृत्यु हुई हों जिसकी संख्या की अभी जाँच हो रही हैं जिसमें मुंहे को छोड़ कर दुसरे जिलों के मरीज भी शामिल हैं।

बॉम्बे हाईकोर्ट ने राज्य सरकार और बीएमसी से ब्लैक फंगस से निपटने की जानकारी माँगी तो राज्य सरकार ने बताया कि, म्यूकरमायकोसिस बीमारी के इंजेक्शन का निर्माण शुरू हो गया है जिसके लिए कच्ची माल की खरीदारी भी कसर की गई हैं क्योंकि उसके इंजेक्शन को बनाने में लगभग 20 दिन लगते हैं। 6 जून तक तक स्थिति बेहतर होगी। महाराष्ट्र सरकार ने कोर्ट को बताते हुए कहा कि, अब तक राज्य में म्यूकरमायकोसिस के लगभग 3200 मामले सामने आए हैं 26 मई तक मुंबई में लगभग 355 मामले थे। राज्य सरकार के अधिवक्ता आशुतोष कुम्भकोणी ने जानकारी देते हुए कहा कि, म्यूकरमायकोसिस फैलने से नहीं हॉट्स ये अधिसूचित बीमारी हैं और इसकी जानकारी अस्पतालों को राज्य सरकारों को दिया जाता हैं इसलिए राज्य सरकार के पास इसकी सारी जानकारी होती हैं।

बात दे कि, अब इस बीमारी की जानकारी कोई भी ऑनलाइन पोर्टल में देख सकता हैं। इस बीमारी से जुड़े सारी जानकारी जैसे कि इलाज, मामले सारे उस पोर्टल ने दी गई हैं। कुम्भकोणी ने कहा कि महाराष्ट्र को रोज 14 हज़ार इंजेक्शन खुराक की ज़रूरत हैं फिलहाल अभी सिर्फ 4 से 5 हज़ार इंजेक्शन ही मिल रहे हैं।

Report by : Shakshi Sharma

Also read : साइबर धोखाधड़ी से बचे और आईसीएमआर द्वारा मान्यता प्राप्त प्रयोगशाला से जाँच कराए – मुंबई पुलिस द्वारा अपील

You May Like

%d bloggers like this: