मुंबई के शक्तिमिल रेप मामले में आरोपियों की फांसी की सजा हुई रद्द, HC ने सुनाई उम्रकैद की सजा

मुंबई उच्च न्यायालय ने आज बहुचर्चित शक्ति मिल बलात्कार मामले में अंतिम फैसला सुनाया और तीनों दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई। अगस्त 2013 में मुंबई (Mumbai) के शक्ति मिल इलाके में एक महिला फोटोग्राफर के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया था। मुंबई सत्र न्यायालय ने इससे पहले तीनों आरोपियों को 2014 में दोषी ठहराया था। और उन्हें इस मामले में मौत की सजा सुनाई थी। इस फैसले को आरोपी ने हाईकोर्ट में चुनौती दी थी।मुंबई उच्च न्यायालय ने आज एक अंतिम सुनवाई में दोषियों की मौत की सजा को खारिज करते हुए उन्हें आजीवन कारावास की सजा सुनाई।

शक्तिमिल रेप केस में कुल पांच आरोपी थे। इनमें विजय जाधव, सलीम अंसारी, सिराज खान, कासिम बंगाली और एक नाबालिग शामिल था। सिराज खान को इससे पहले मुंबई सत्र न्यायालय ने आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी। वहीं नाबालिग आरोपी को बाल सुधार गृह भेजा गया। शेष विजय जाधव, सलीम अंसारी और कासिम बंगाली ने सत्र न्यायालय के फैसले को उच्च न्यायालय में चुनौती दी थी। हाईकोर्ट ने आज तीनों को उम्रकैद की सजा सुनाई है।

22 अगस्त 2013 को मुंबई के महालक्ष्मी इलाके के शक्ति मिल इलाके में शाम के वक्त एक महिला फोटोग्राफर के साथ सामूहिक दुष्कर्म किया गया. पीड़िता अपने सहकर्मी के साथ वहां काम के सिलसिले में फोटो लेने गई थी। उस वक्त पांच लोगों ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। एक अन्य 19 वर्षीय लड़की ने भी आरोप लगाया था कि शक्ति मिल इलाके में उसके साथ भी सामूहिक बलात्कार किया गया था। इस मामले में भी आरोपी यही लोग थे। इस मामले में मुंबई सत्र न्यायालय ने आरोपी विजय जाधव, सलीम अंसारी, सिराज खान, कासिम बंगाली और एक नाबालिग को दोषी ठहराया था। सिराज खान को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई थी। जबकि अन्य तीन को मौत की सजा सुनाई गई। वहीं नाबालिग को बाल सुधार गृह भेजा गया।

Report by: Rajesh Soni

Also read: https://metromumbailive.com/now-onions-will-be-cheaper-in-mumbai-know-the-reason/

You May Like

%d bloggers like this: