कोरोना महामारी के बीच सत्ताधारी शिवसेना ने की अगले साल होने वाले BMC चुनावों की तैयारी

पति के पैसे का हक़दार केवल पहेली पत्नी, दूसरी नहीं : बॉम्बे हाईकोर्ट

महाराष्ट्र (Maharashtra) की राजधानी मुम्बई (Mumbai) में अगले साल होने वाले बृहन्मुंबई महानगर पालिका यानी बीएमसी (BMC) चुनावों (Election) के मद्देनजर सत्ताधारी शिवसेना ने तैयारियां करना शुरू कर दी है। वोटर्स को रिझाने के लिए अभी से शिवसेना ने दांव चलना शुरू कर दिया है।

इसी कड़ी में शिवसेना ने साल 2011 तक कि झुग्गी-झोपड़ियों को पानी देने का प्रस्ताव दिया है। जिसको लेकर शुक्रवार को बीएमसी के सदन में चर्चा भी की गई। बीएमसी और राज्य में शिवसेना की सत्ता होने के कारण इस प्रस्ताव के मंजूर होने की संभावना बहुत ज्यादा बढ़ गई है।

बीएमसी के नियम के मुताबिक, साल 1995 तक की झुग्गी-झोपड़ियों को संरक्षित माना जाता है। हालांकि अब महाराष्ट्र सरकार के नए नियम के अनुसार, साल 2000 तक की झुग्गी-झोपड़ियों को वैध माना गया है। जिसकी वजह से बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने साल 2000 तक की झुग्गी-झोपड़ियों को पानी देने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

लेकिन अब बीएमसी की सत्ता पर काबिज शिवसेना की तरफ से 2011 तक के झोपड़ों को पानी मुहैया कराने की मांग की गई है। इस बाबत शिवसेना के पूर्व विधायक विनोद घोसालकर ने बृहनमुंबई महानगर पालिका की महापौर किशोरी पेडनेकर को पत्र भी लिखा है।

दहिसर के गणपत पाटील नगर में सन 2 हजार तक के झुग्गी-झोपड़ियों को बीएमसी द्वारा पानी की आपुर्ति की जा रही है। उसी प्रकार साल 2011 तक के झुग्गी-झोपड़ियों को भी पानी की आपुर्ति की जाए। इस संदर्भ में बीएमसी में चर्चा भी हुई है। मेयर किशोरी पेडनेकर ने विनोद घोसालकर के पत्र को सभी पार्टियों के नेताओं के समक्ष भी रखा है।

Report by : Rajesh Soni

Also read : जानिए महाराष्ट्र में 1 जून तक लगे लॉकडाउन में क्या रहेगा शुरू और क्या बंद?

You May Like

%d bloggers like this: