क्या आप 500 साल जीना चाहोगे ?

आप कितने साल तक जीना चाहते हों? 100 साल? 150 साल?या 200 साल या फिर 400 साल? अगर आप ज्यादा साल जीने की इच्छा रखते है तो आपके लिए एक अच्छी खबर हैं। 400 साल जीने की योजना बन चुकी हैं , और इसपर काम भी शुरू हो गया हैं। चीन आपको 400 साल तक जिंदा रखने का काम कर रहा हैं। चीन ने एक ऐसा प्रयोग किया था जिसमें यह दावा किया गया है कि कोई भी व्यक्ति अब 400 से 500 साल तक जीवित रह सकता हैं। हालांकि इजराइल भी इसमें पीछे नहीं हैं वो भी इसी राह पर चल पड़ा  है
खबर इजराइल से आई है कि वहाँ के वैज्ञानिकों ने एक ऐसा प्रयोग किया हैं, जिससे एक आम आदमी 120 साल तक जिंदा रह सकता है। हालांकि यह प्रयोग 21वीं सदी में हो रहा है पर हमारे पुराणों में देखे तो उसमें यह उम्र बहुत मामूली है ।
हाल फिलहाल की बात की जाए तो देवरहा बाबा जो कि यूपी के हैं और काफी चर्चा में थे। उनके बारे में किसी को कोई ठोस जानकरी नहीं है। पर कोई बोलता है वो 250 साल तक जिए हैं तो कोई बोलता है 400 साल तक जिए हैं।  एक ऐसा शख्स जो बगैर खाए 450 साल 250 साल जिंदा रह सकता है। कोई शख्स बिना खाना खाएं किया 250 या  400 साल कैसे जीवित रह सकता है? इन सवालों के जवाब आज भले ही मोर्डन साइंस के पास ना हो लेकिन हकीकत से इनकार नहीं किया जा सकता।  देश के कई बड़े नेता और प्रधानमंत्री देवरहा बाबा के दर्शन कर चुके हैं। जिनमें राष्ट्रपति  राजेंद्र प्रसाद, प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी, राजीव गांधी, अटल बिहारी वाजपेयी शामिल हैं। उनके अलावा लालू प्रसाद यादव, मुलायम सिंह यादव और कमलापति त्रिपाठी जैसे बड़े नेता भी देवरहा बाबा के चमत्कारों के साक्षी बन चुके हैं।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की माता जी से तो आप परिचित होंगे ही।  मोदी जी की माँ हीराबेन की उम्र 100 साल हो चुकी हैं। लोगों को अच्छा लगा और इस बात का आश्चर्य भी हुआ कि कोई 100 साल कैसे जी लेता हैं।
आज की तारीख में सबसे ज्यादा उम्रदराज महिला की बात की जाए तो, आप चौंके जांएगे। जम्मू-कश्मीर के बारामुला की रहने वाली रेहती बेगम नाम की इस महिला की उम्र 124 साल हैं, जिन्हें कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) की पहली डोज दी गई थी। वो 124 साल और कुछ महीने तक  जिंदा रहीं । उनकी इतनी उम्र लोगों के लिए जरूर आश्चर्य का विषय बनी हुई है ।
अभी भले ही हम लोगों के 124 साल जिंदा रहने पर आश्चर्य जता रहे हो । लेकिन पुराने दौर में यह उम्र बेहद मामूली मानी जाती  । अगर आप पूराने इतिहास के पन्ने पलटेंगे तो हमारे इतिहास में ऐसे कई लोग हैं, जिनकी उम्र 10 से 20 लाख साल तक रहीं हैं। हम बात करते हैं रावण की। रावण को सब जानते हैं हर दशहरा में उसको जलाते भी हैं। लेकिन रावण की उम्र अगर आपसे पूछी जाए तो शायद आपको नहीं पता होगा। रावण वो शख्शियत है, जो लगभग 8 लाख साल जिया था। आज भी ऐसी 8 हस्तियाँ इस पृथ्वी पर हैं जिसके पौराणिक साक्ष्य मौजूद हैं जिनकी मौत अब तक नहीं हुई हैं। और आगे कितने साल तक जिएँगे ये रहस्य अभी तक किसी को नहीं पता। ऐसे कई लोग भी हैं जिनकी मृत्यु अब तक नहीं हुई हैं। जिनमें श्री हनुमान,अश्वत्थामा, श्री परशुराम, ऋषि मार्कंडेय, कृपाचार्य, विभीषण, वेद व्यास और राजा बलि ये आठ देवरूपी योगी और महापुरुष शामिल हैं। इन इन्हें अमर रहने का वरदान मिला हुआ हैं।
महाभारत काल के दौरान उस समय गंगा पुत्र भीष्म थे। उनको इच्छा मृत्यु का वरदान था। मतलब उनका मृत्यु उनके हाथों में थी। वो जब चाहते तब ही उनकी मृत्यु हो सकती थी। उत्तरायण से दक्षिणरायण तक उन्होंने अपनी मौत का इंतज़ार किया ताकि मरने के बाद उनको सीधा स्वर्ग मिले। भीष्म को इच्छामृत्यु का वरदान प्राप्त था।

ये वैज्ञानिक दौर चल रहा हैं इसलिए  जब तक हम इन बातों को वैज्ञानिक कसौटी पर  खरा होकर नहीं देखते तब तक उन्हें नहीं मानते हैं।  शायद यहीं वजह हैं कि इजराइल के वैज्ञानिकों ने इन सब चीजों को बस नए सिरे से तलाशना शुरू कर दिया हैं।

सुश्रुत संहिता आयुर्वेद में आज से 3 हज़ार साल पहले जो लिखा गया हैं, उसको  1800 के आसपास मॉडर्न साइंस ने उस ग्रंथ के विधा के आधार पर पहला आपरेशन किया। 150 से 200 साल पहले इस पहले आपरेशन को वैज्ञानिकों ने किया जबकि कि 3000 साल पहले ही लिख दिया गया था।

इससे पहले कई देश उम्र बढ़ाने की तकनीकी खोज का दावा कर चुके हैं जिनमें सबसे पहला नाम कैलिफ़ोर्निया और चीन का आता हैं। कैलिफ़ोर्निया और चीन की नानजिंग यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने मिलकर एक ऐसे सिनर्जिस्टिक सेलुलर पाथवे की पहचान की थी ।जिसमें यह दावा किया गया था कि किसी व्यक्ति की उम्र 400 से 500 साल तक बढ़ सकती हैं। इस पाथवे का प्रयोग सबसे पहले नेमाटोड कीड़े पर किया गया था।  जिससे इस शोध में वैज्ञानिकों द्वारा सी एलिगेंस नामक कीड़े के जीवनकाल में 5 गुना अधिक वृद्धि देखी गई। हालांकि अभी तक उसका प्रयोग इंसानों पर नहीं किया गया है।
कुछ इसी तरह इजराइल के बार – इलान यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने यह दावा किया कि उन्होंने सबसे पहले इस उम्र बढ़ानी वाली प्रोटीन का प्रयोग चूहों पर किया था। चूहों पर किया गया प्रयोग सफल रहा। चूहों के बाद अब इस उम्र बढ़ानी वाली प्रोटीन का प्रयोग बंदरों और इंसानों पर किया जाएगा।
वैज्ञानिकों के अनुसार, यदि इंसान के शरीर में SIRT-6 नामक प्रोटीन की मात्रा बढ़ाई जाए तो , इंसान की उम्र बढ़ाई जा सकती हैं।

SIRT 6 एक एंजाइम है जो मुख्य रूप से कोशिका के केंद्रक में स्थित होता है जो कि व्यक्ति में होनेवाले तनाव, दीर्घायु को बढ़ाने वाले कारकों को खत्म कर देता है। और वह उम्र बढ़ाने में सहायक होती हैं। रिसर्चर्स  का कहना है कि जब इस तकनीक का  चूहों पर प्रयोग किया गया तो  चूहों के जीवनकाल में 23 फीसदी की वृद्धि हुई थी । यानि अब वह चूहा अपने जीवनी के समय से और 23 गुना ज्यादा जिएगा।

रिसर्चर हैम कोहेन के अनुसार, SIRT6  एक प्रोटीन का कार्य करता है, जिसका उपयोग कैंसर से बचाने जैसी बडी बीमारियों के लिए भी किया जाता है। जब इस प्रोटीन का चूहे पर इस्तेमाल किया  गया तो उसकी उम्र बढ़ गई। इसका प्रयोग मादा और नर दोनों चूहों पर किया गया था। किंतु मादा चूहों की तुलना में नर चूहों के जीवनकाल में ज्यादा वृद्धि दिखाई दिया।  हालांकि नर चूहों के जीवनकाल में 30 फीसदी की वृद्धि देखी गई , वहीं मादा चूहों के जीवनकाल में केवल 15 फीसदी की वृद्धि हुई थी।
कोहेन के अनुसार जो चूहे बूढ़े होते जाते हैं उनकी एनर्जी कम होती जाती हैं और उनका जीवनकाल भी कम होता जाता हैं। लेकिन SIRT 6 प्रोटीन डालते ही चूहों की शक्ति बढ़ जाती हैं। ऊर्जा बढ़ने के साथ ही इनके जीवन काल में भी बढ़ोतरी हो जाती है।  चूहों पर इस तकनीक के सफल होने से वैज्ञानिक काफी उत्साहित हैं । अब इस बात की संभावना बढ़ गई है कि  यह   प्रयोग इंसानों और बंदरों पर भी सफल होगा। मतलब अब इंसानों की उम्र भी बढाई जा सकती है।
हैम कोहेन का कहना है कि वे ऐसी खोज में लगे हुए हैं,जिससे SIRT 6  प्रोटीन, सुरक्षित और आसान तरीके से  इंसान के शरीर में  प्रोटीन की मात्रा बढ़ाई जा सके। वैज्ञानिक  प्रोटीन बढ़ाने वाले अणु की  भी खोज कर रहे हैं।

वैज्ञानिकों की कडी मेहनत के बाद नई तकनीक से इंसान अपनी  उम्र 400 से 500 साल तक बढ़ा सकेगा।

Report by : Sakshi Sharma

Also read : स्पेससूट की कीमत जानकर रह जाएंगे दंग

You May Like

%d bloggers like this: